सावधानः राजधानी में रात को तेज रफ़्तार वाहन बनकर घूम रहे है मौत

0
5

सीपीयू व यातायात पुलिस दिन में चालान काट कर भर रहे है सरकारी खजााना
अपराध संवाददाता
देहरादून। राजधानी में देर रात तेज रफ़्तार वाहनों की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी हो रही है। बीती रात भी एक अज्ञात तेज रफ़्तार बाइक की टक्कर से व्यक्ति की मौत हो गयी। सूचना मिलने पर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर अग्रिम कार्यवाही शुरू कर दी। मृतक की पहचान नहीं हुई है वहीं पुलिस सड़क हादसे के आरोपी बाइक सवार की तलाश में जुटी है।
पिछले काफी समय से राजधानी दून में देर रात तेज रफ्रतार वाहन दौड़ रहे है। जिनकी चपेट में आकर जहां कई लोग मौत के घाट उतर चुके है वहीं कई लोग इन सड़क हादसों का शिकार बनकर अपनी जिन्दगी विकलांग हालत में बिता रहे है। ऐसा नहीं है कि इन सब की जानकारी पुलिस महकमें व प्रशासन को नहीं है लेकिन रात होते ही पुलिस महकमां बैरियरों पर सिर्फ सरकारी खजाने व अपनी जेब भरने में जुट जाता है। इस बात का फायदा उठाकर राजधानी में कुछ सड़कों पर लोग तेज रफ्रतार वाहन दौड़ाने लगते है जिनसे लोग सड़क हादसों का शिकार बन रहे है। राजधानी में सीपीयू का गठन सड़क हादसों की रोकथाम व स्ट्रीट क्राइम रोकने हेतू किया गया था। लेकिन सीपीयू के रहने के बावजूद देर रात सड़कों पर तेज रफ्रतार वाहनों का दौड़ना सीपीयू की कार्यप्रणाली दिखाने के लिए काफी है। सुबह सवेरे से ही सीपीयू व यातायात पुलिस कर्मी हर चौराहे पर चालान काटती दिखायी देती है जबकि देर रात सड़कों पर दौड़ते वाहनों से वह अपना मुंह फेर लेती है।
बीती रात एक बार फिर तेज रफ्रतार बाइक की चपेट में आकर राजपुर रोड पर एक अज्ञात व्यक्ति की मौत हो गयी। जबकि बाइक सवार वहां से बाइक सहित भागने में सफल रहा। सूचना मिलने पर पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर ली है। ऐसे में सवाल उठता है कि अगर सीपीयू या पुलिस सड़कों पर मुस्तैद रहती तो क्या यह सड़क हादसा होता या फिर वह बाइक सवार वहां से निकल भागता। देखना होगा कि पुलिस प्रशासन कब तक रात में दौड़ने वाले इन तेज रफ्रतार वाहनों को रोकने के लिए आगे आता है?

LEAVE A REPLY