बारिश से पूरे प्रदेश में तबाही का मंजर

0
14

मुनस्यारी में डीआरओ का दफ्तर भूस्खलन से तबाह
उत्तरकाशी में दर्जनों मकानों में दरारें, लोग भयभीत
देहरादून। सूबे में हो रही लगातार बारिश से कई जिलों में तबाही का मंजर देखने को मिला है। उत्तरकाशी, पिथौरागढ़, चमोली और टिहरी में बारिश और भूस्खलन के कारण भारी नुकसान हुआ है। राजधानी देहरादून से लेकर चमोली और पिथौरागढ़ तक सैकडों सडकें मलबा आने के कारण बंद हो गई हैं और दर्जनों गांवो का संपर्क मुख्यालय से टूट चुका है।
पिथौरागढ़ से प्राप्त समाचार के अनुसार मुनस्यारी क्षेत्र में हो रही बारिश और भूस्खलन के कारण सडकोें पर लोगों का चलना मुश्किल हो गया है। पहाड से बडे बडे बोल्डर गिर रहे हैं भूस्खलन के कारण यहां बना डीआरओ का ऑफिस भी तबाह हो चुका है। वहीं उत्तरकाशी में हो रही बारिश के कारण मनेरी क्षेत्र के दर्जनों घरों में दरारें पड चुकी हैं जिसके कारण लोग भय के साये में जीने को विवश हैं। यमुना घाटी के दर्जन भर गांवों का संपर्क मुख्यालय से टूट चुुका है वहीं पुरोला क्षेत्र के भी आधा दर्जन से अधिक गांव अलग थलग पड गये हैं। भीमताल में थाने की एक दीवार भारी बारिश के कारण गिर गई। वहीं श्रीनगर के पास हुए भारी भूस्खलन के कारण चमोली और रूद्रप्रयाग का भी संपर्क टूट गया है। उधर मसूरी मेें भी बारिश के कारण एक आवासीय मकान का पुस्ता ढह जाने की खबर है।
पहाडों पर हो रही भारी बारिश के कारण पश्चिमी यूपी के 300 से अधिक गांव बाढ़ की चपेट में आ गये हैं। राज्य की सभी प्रमुख नदियां उफान पर हैं। सरयू और गंगा का जलस्तर खतरे का निशान पार कर गया है वहीं गोलाकोशी और ठेला व सौंग आदि नदियां उफान पर हैं। राज्य की तमाम प्रमुख सडकों सहित संपर्क मार्ग बंद होने से लोगों को भारी परेशानी हो रही है।

राजधानी दून हुआ पानी पानी
देहरादून। आज दोपहर 12 बजे के बाद राजधानी दून में हुई मूसलाधार बारिश के कारण दो घंटे तक जनजीवन ठहर सा गया। एक घंटे की मूसलाधार बारिश ने पूरे शहर में जलभराव की स्थिति पैदा कर दी और सडकें नदियों में तब्दील हो गई।
मूसलाधार बारिश के कारण सडकों पर जलभराव की स्थिति के कारण वाहनों की गति पर भी ब्रेक लग गया। दिलाराम चौक से लेकर एस्ले हॉल, घंटाघर तथा पंचायती मंदिर चौक पर डेढ़ से दो फीट तक पानी भर गया जिसके कारण वाहनों की आवाजाही भी थम गई। उधर प्रिंस चौक और सहारनपुर चौक तथा आराघर चौक पर भी भारी जलभराव की स्थिति देखने को मिली। रिस्पना पुल के नीचे तो इतना पानी भर गया कि यहां घंटाें आवाजाही बंद रही। राजधानी के कई निचले हिस्सों में पानी लोगों के घरों और दुकानों तक में घुस गया।

LEAVE A REPLY