मलबे में आठ लोग जिंदा दफन

0
76

टिहरी के कोट गांव में की घटना

चार लोगों के शव बरामद
बचाव व राहत कार्य जारी
देहरादून। बीती रात टिहरी की बाल गंगा तहसील के कोट गांव में पहाड़ से आये मलबे में एक मकान पूरी तरह दब गया जिसमें सो रहे आठ लोग जिंदा ही मलबे में दफन हो गये। बचाव व राहत कार्य में जुटी टीमों ने अब तक चार लोगों के शव बरामद कर लिए हैं जबकि एक बच्ची को घायल अवस्था में मलबे से निकाला गया है। अभी मलबे में चार और लोगों के दबे होने की संभावना है जिनकी तलाश जारी है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार बीती रात सुबह तीन और चार बजे के बीच क्षेत्र में हो रही भारी बारिश के कारण पहाड़ से आये मलबे में एक मकान पूरी तरह जमींदोज हो गया। बताया जा रहा है कि जिस समय मलबा आया उस समय परिवार के सभी लोग घर के अंदर सोये हुए थे। जब घटना की सूचना मिलने पर एसडीआरएफ और पुलिस की टीमें मौके पर पहुंची जबकि गांव के लोग पहले ही से बचाव व राहत कार्य में जुटे हुए थे। मलबे के कारण घर तक पहुंचने का कोई रास्ता भी नहीं बचा है जिसके कारण बचाव व राहत कार्य में परेशानियों का सामना करना पड रहा है।
टिहरी की जिलाधिकारी सोनिका द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार अब तक चार लोगों के शव मलबे से निकाले जा चुके हैं जिनमें तीन पुरूष व एक महिला शामिल हैं जबकि एक बच्ची को घायल अवस्था में मलबे से निकालने में सफलता मिल सकी है। घायल बच्ची को इलाज के लिए भेज दिया गया है। मृतकों में आशीष पुत्र मोर सिंह, बबली पुत्री मोर सिंह, अतुल पुत्र हुकम सिंह तथा एक अन्य शामिल हैं जबकि स्वाति पुत्री राकेश राणा को घायल अवस्था में मलबे से निकाला गया है। ग्रामीणों के अनुसार अभी तीन चार लोगों के मलबे में दबे होने की संभावना जताई जा रही है।
एसडीआरएफ और पुलिस की टीमें बचाव व राहत कार्य में जुटी हुई हैं। इस घटना को लेकर क्षेत्र में शोक की लहर है। परिवार में एक बच्ची को छोडकर बाकी लोगों के जीवित बचने की अब कम ही संभावना बची है क्योंकि घटना को 12 घंटे से अधिक का समय बीत चुका है। घर के ऊपर मलबा इतनी बडी मात्र में आया है कि उसे हटाया जाना मुश्किल हो रहा है। घटना की सूचना मिलने पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अधिकारियों को यथासंभव बचाव व राहत कार्य करने के तथा पीडितों की मदद करने के निर्देश दिये हैं।

LEAVE A REPLY