मल्टीस्टारर फिल्मों से मुझे कोई एतराज नहीं: शाहिद

0
10

किस्मत कनेक्शन, दिल बोले हडि़प्पा, चांस पे डांस, तेरी मेरी कहानी, मौसम और शानदार जैसी तमाम अन्य फिल्मों के फ्लॉप होने के बाद अभिनेता शाहिद कपूर को यह समझ आ गया है कि उनकी सोलो हीरो वाली फिल्में लगातार असफल हो रही हैं। शायद यही वजह है कि उन्होंने सोलो हीरो वाली फिल्मों से दूरी बना ली थी। पिछले दिनों वह उड़ता पंजाब, रंगून और पद्मावत जैसी फिल्मों में नजर आए। शाहिद कहते हैं कि वह अच्छी कहानियों और मजबूत किरदारों वाली कहानियों से जुडऩा चाहते हैं, उन्हें इस बात से बिल्कुल भी फर्क नहीं पड़ता कि फिल्म में उनके अलावा कितने और हीरो हैं।
शाहिद कहते हैं, आमतौर पर एक साल में मेरी एक फिल्म आती है, लेकिन इस साल मेरी 2 फिल्में आ गई, पहले पद्मावत और अब बत्ती गुल मीटर चालू। मेरी टीम बहुत खुश है कि मैंने साल में 2 फिल्में कर ली हैं। यह मेरे लिए एक बड़ा अचीवमेंट है। मुझे मल्टीस्टारर फिल्मों से कोई एतराज नहीं रहा है, मेरे लिए फिल्म के किरदार और कहानी सबसे ज्यादा मायने रखते हैं। मुझे कभी भी ऐसा नहीं लगता कि यह एक हीरो या दो हीरो वाली फिल्म है।
शाहिद बताते हैं, मैं कभी किसी फिल्म को इस सोच के साथ नहीं करता हूं, चाहे वह उड़ता पंजाब हो जिसमें दिलजीत दोसांझ थे, चाहे वह रंगून हो जिसमें सैफ अली खान थे और चाहे वह पद्मावत हो जिसमें रणवीर सिंह थे। इस फिल्म (बत्ती गुल मीटर चालू) में भी मेरे साथ दिव्येंदु शर्मा हैं, जो एक तरह से लीड रोल ही प्ले कर रहे हैं। फिल्म में उनके किरदार की वजह से ही सब कुछ होता है। मुझे लगता है सही और मजबूत कहानियों को चुनना सबसे ज्यादा जरूरी है… न की मल्टीस्टारर या सोलो हीरो के बारे में सोचना। मैं ऐसी फिल्मों का हिस्सा बनना चाहता हूं, जो लोगों तक कोई अच्छा संदेश पहुंचा पाएं, उनके दिल को छू पाएं और उन्हें थोड़ा हंसा पाएं और ऐसी फिल्म में कितने भी स्टार्स हों मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं है।
फिल्म बत्ती गुल मीटर चालू के बारे में शाहिद ने कहा, देश और सामाज की समस्या पर बेस्ड फिल्म में बड़े स्टार्स को कास्ट करने की वजह यह है, ताकि फिल्म ज्यादा से ज्यादा लोग देखें। मैंने और श्रद्धा कपूर ने विशाल भारद्वाज की फिल्म हैदर में भी साथ काम किया था, उस फिल्म में कश्मीर की ह्यूमन राइट्स की समस्या को उठाया गया था, उड़ता पंजाब में पंजाब की नशे की गंभीर समस्या पर बात की गई थी, अब बत्ती गुल मीटर चालू मेरी तीसरी फिल्म है, जो देश की ऐसी समस्या पर बात करती है, जिससे लोग जूझ रहे हैं।
शाहिद आगे कहते हैं, मैं आपको बता दूं कि मुझे उड़ता पंजाब और हैदर में काम करने के बाद लोगों का बहुत ज्यादा प्यार मिला। मुझे सामने से खुद लोगों ने फोन और तमाम मेसेज करके अपना प्यार जताया था क्योंकि हमने फिल्म के जरिए उनकी समस्या पर बात की थी। ऐसी फिल्मों का हिस्सा बनना मेरे लिए बहुत गर्व की बात है जो मनोरंजन के साथ-साथ देश की गंभीर समस्या पर बात करती हैं। अगर हम इन समस्यायों को बताने के लिए अपनी स्टारडम का उपयोग नहीं करेंगे तो उसे खो देंगे, आज हमारे पास मौका है, जब हम अपनी शोहरत के सहारे मानवता के लिए फिल्मों के जरिए कुछ कर सकते हैं। मेरे हिसाब से हर ऐक्टर को जब भी मौका ऐसी फिल्म में काम करना चाहिए। ऐसी संदेश देने वाली फिल्मों को मनोरंजक बनाना जरूरी है, अगर वह डॉक्युमेंट्री बन गई तो उसे कोई नहीं देखेगा। इन फिल्मों में बड़े स्टार्स को लेना भी जरूरी है ताकि ज्यादा से ज्यादा दर्शकों तक संदेश पहुंच सके।
शाहिद कपूर की फिल्म बत्ती गुल मीटर चालू में उनके अलावा श्रद्धा कपूर, दिव्येंदु शर्मा, यामी गौतम, सुधीर पांडे, फरीदा जलाल और सुप्रिया पिलगांवकर अहम किरदारों में नजर आएंगे। यह फिल्म 21 सितंबर को देशभर के सिनेमाघरों में रिलीज़ होगी। फिल्म का निर्देशन श्री नारायण सिंह ने किया है। फिल्म को संगीत से सजाया है अनु मलिक ने। (आरएनएस)

LEAVE A REPLY