…तो अच्छा है आपके बच्चों का आपस में झगडऩा

0
22

अपने बच्चों के बीच झगड़ा होता देख मां-बाप चिंता में डूब जाते हैं। ऐसे मामले में कई बार आप अपने बच्चों के झगड़ों के बीच में आ जाते हैं और उन्हें समझाने की कोशिश करते हैं। कई बार बच्चों को समझाने के चक्कर में आप उनपर गुस्सा होने लगते हैं। लेकिन अब आपको इस बारे में ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि एक शोध में पता चला है कि बच्चों का आपस में झगडऩा बच्चे के लिए फायदेमंद है। यूनिवर्सिटी ऑफ कैंब्रिज सेंटर ऑफ फैमिली रिसर्च में इस विषय पर 5 वर्ष तक एक स्टडी की गई और इसके आंकड़े चौंकाने वाले हैं…
कठिन समय से लडऩा सिखेंगे
ये रिसर्च 2 से 6 साल के उन बच्चों पर की गई, जिनके माता-पिता उनके लड़ाई-झगड़ों को लेकर चिंता में रहते हैं। शोध की मानें तो, बच्चों के बीच होने वाले झगड़े उन्हें कठिन समय से लडऩे और भविष्य में अपने रिश्ते की अहमियत को समझने में मदद करते हैं। अगर झगड़ा कंट्रोल से बाहर न हो तो यह काफी रचनात्मक हो सकता है।
कम्यूनिकेशन स्किल होगी बेहतर
शोध का रिजल्ट आने पर विशेषज्ञ इस नतीजे पर पहुंचे कि बच्चों के बीच होने वाली बहस से वह भाषा की कठिनाइयों और कम्यूनिकेशन स्किल को अच्छे से इंप्रूव कर पाते हैं। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि इन झगड़ों के बीच वह अपनी भावनाओं को कंट्रोल करना सीख लेते हैं साथ ही वह यह भी समझ पाते हैं कि उनकी कौन-सी हरकत किसी दूसरे की भावनाओं को भी ठेस पहुंचा सकती है। एक छोटे-सी बहस से बच्चे जीवन की कठिनाइयों और अपने व्यक्तित्व के मुताबिक स्वस्थ चर्चा करना सीखते हैं।
सामन्य बहस को करें नजरअंदाज
जानकारों की मानें तो, अगर बच्चों की बीच सामान्य बहस हो रही हो तो मां-बाप को तब तक बीच में नहीं बोलना चाहिए, जब तक वह बहस मार-पिटाई और बदतमीजी में न बदल जाए। ऐसे माहौल में माता-पिता को अपने बच्चों को आपस में ही अपनी लड़ाई सुलझाने का और एक-दूसरे को समझने का समय देना चाहिए।(आरएनएस)

LEAVE A REPLY