चालान काटो और जुर्माना वसूलो

0
594

दून की मित्र पुलिस का काम

देहरादून। अपराधों पर लगाम लगाने और यातायात व्यवस्था को सुचारू बनाने तथा जनता को सुरक्षा प्रदान करने के लिए बनी पुलिस इन दिनों चालान काटने के काम तक ही सीमित हो कर रह गयी है।
बीते कल दून पुलिस ने बिना हेलमेट चलने वाले दोपहिया वाहन चालकों का चालान काटकर सवा लाख और किरायेदारों का सत्यापन न कराने वाले मकान मालिकों का चालान काटकर ढ़ाई लाख रूपये जुर्माने के रूप में वसूले गये। सिर्फ एक दिन में अकेले दून की पुलिस ने चालानों से ही सरकारी खजाने में लगभग साढ़े चार लाख का इजाफा किया। राजधानी पुलिस भले ही लोगों को सडकों पर सुरक्षा प्रदान करने में असफल हो, लेकिन चालान काटने में उसका कोई मुकाबला नहीं कर सकता है। आये दिन लूटपाट और टप्पेबाजी की घटनाएं दून में आम बात हो चुकी है। यातायात व्यवस्था का क्या हाल है? यह किसी से भी छिपा नही है। बीते कल दून में एक अनियंत्रित बस ने स्कूटी सवार मां बेटी को कुचल डाला गया। जिस डबल हेलमेट को लेकर कल दून पुलिस ने 1,152 वाहनों का चालान किया और सवा लाख रूपये वसूले उसी शहर की सड़कों पर जिन मां बेटी की सडक दुर्घटना में जान चली गयी उन दोनों ने ही हेलमेट पहना हुआ था।
खास बात यह है कि पुलिस हाईकोर्ट के आदेश के बाद जिस तरह जांच अभियान चला रही है और चालान काट रही है उसके कारण भी सडकों पर जाम की स्थिति बनी हुई है लेकिन पुलिस को लोगों की परेशानियों की कोई चिंता नहीं है। वह अपने चालान काटने के काम मेे व्यस्त है। ऐसा लगता है कि दून की पुलिस का काम सिर्फ चालान काटने तक ही सीमित होकर रह गया है। हाईकोर्ट द्वारा जून माह में सडक सुरक्षा के मद्देनजर शासन को दोपहिया वाहन पर पीछे बैठने वाली सवारी के लिए भी हेलमेट जरूरी करने के निर्देश दिये गये थे लेकिन पुलिस द्वारा इसके महीनों का समय मिलने के बाद भी जागरूकता अभियान नही चलाया गया। 11 अगस्त से लागू किये गये नियम की आम लोगों को जानकारी तक नही है। यही कारण है बड़ी संख्या में हर रोज दोपहिया वाहन चालकों के चालान काटे जा रहे हैं।

 

LEAVE A REPLY