धूम्रपान करने वाले पिता से बच्चों को हो सकता है कैंसर

0
4

नई दिल्ली । सिगरेट का धुंआ कितना नुकसानदायक हो सकता है यह इस बात से पता चलता है कि जो व्यक्ति धूम्रपान करता है उसे और उसके बच्चों को भी कैंसर जैसा घातक रोग हो सकता है।
यह जानकारी अखिल भारतीय आयुÆवज्ञान संस्थान एम्स के एनोटॉमी विभाग की प्राफ़ेेसर रीमा दादा के शोध में सामने आई है। शोध के मुताबिक, धूम्रपान करने वाले पुरुषों के शुक्राणुओं को ऑक्सीडेटिव डीएनए क्षति पहुंचती है। इस वजह से उनके बच्चों को कैंसर का खतरा बढ़ जाता है।
शोध में डॉक्टर ने 131 पिता और आरबी कैंसर जीन वाले बच्चों के नमूने एक= किए। इसके अलावा 50 स्वस्थ जोड़ों के भी नमूने एक= किए। इसमें सामने आया कि पिता के शुक्राणु में ऑक्सीडेटिव डीएनए क्षति की वजह से उनके बच्चों को कैंसर की संभावनाएं अधिक थीं। यह शोध एशिया पैसिफि़क जर्नल ऑफ़ कैंसर प्रिवेंशन में प्रकाशित हुआ है।
प्राफ़ेेसर रीमा दादा के मुताबिक, शोध में धूम्रपान छोड़कर योग और ध्यान करने से पिता के डीएनए में कम क्षति देखी गई। साथ ही, इससे स्पर्म के डीएनए में सुधार होता है। जोड़ों की योग और ध्यान अनुपालन के साथ फ़ॉलोअप पर बार-बार जांच की गई। धूम्रपान छोड़ने के साथ-साथ जिन लोगों ने योग किया, उनमें छह महीने की अवधि में डीएनए क्षति कम देखने को मिली है। इससे उनके बच्चों में कैंसर की संभावनाएं कम हो जाती हैं। योग चिकित्सकों ने भी एम्स में किए गए शोध पर सहमत जताई है।

LEAVE A REPLY