बैंक सेटलमेंट के नाम पर लाखों की धोखाधड़ी करने वाला गिरफ्तार

0
59

अपराध संवाददाता
देहरादून। बैंक लोन के कर्ज का सेटलमेंट कराने के नाम पर लाखों रूपये की धोखाधड़ी करने वाले मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्रतार करने में सफलता हासिल की है। आरोपी खुद को डीजीएम स्टेट बैंक लुधियाना बताया करता था। पुलिस इस फर्जीवाड़े को करने वाले गैंग के अन्य साथियों की तलाश में छापेमारी कर रही है।
मामला राजपुर थाना क्षेत्र का है। मिली जानकारी के अनुसार बीते मंगलवार को कुठालवाड़ी जोहड़ी गांव निवासी संजीव सिंह ने थाना राजपुर में तहरीर देकर बताया कि वह अपने ससुर कृष्णकांत जो कि ओएनजीसी से रिटायर्ड व सीनियर सिटीजन है के साथ कृषाली इंफ्रास्ट्रक्चर प्राइवेट लिमिटेड के नाम से कम्पनी चलाते थे। बताया कि वादी के ससुर के मौत के बाद से ही कम्पनी घाटे मे चली गयी। तथा कम्पनी के ऊपर बैंक का काफी कर्ज हो गया। जिसका केस बैंक और वादी के साथ डीआरटी लखनऊ में चल रहा है। बताया कि इस दौरान उनकी मुलाकात अमरपाल निवासी मेरठ से हुई। उन्होने मुझे चन्द्रपाल निवासी हरिद्वार से मिलवाया। उन्होने बताया कि वित्त मंत्रलय में उनके परिचित है जो बैंक सेटलमेंट करा सकते है। इस पर हम लोगों की सहमति बन गयी तथा इनके द्वारा भगवान शर्मा निवासी हरियाणा जो खुद को डीजीएम स्टेट बैंक लुधियाना बताया करता था तथा स्टेट बैंक मुंबई के पीए को अपना ब्रदर इन ला बताता था। इनके द्वारा इस कार्य के एवज में मुझसे 17 लाख 50 हजार की रकम अलग-अलग तारीखों में ले ली गयी। परन्तु किसी प्रकार का सेटलमेंट नहीं कराया गया। जब उन्होने इनसे अपनी रकम वापस मांगी तो वह जान से मारने की धमकी देने पर उतारू हो गये। मामले में पुलिस ने तत्काल मुकदमा दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी। तलाश में जुटी पुलिस टीम ने जिला रेवाड़ी हरियाणा से मुख्य अभियुक्त भगवान शर्मा को गिरफ्रतार कर लिया। जबकि बाकी आरोपियों की तलाश में छापेमारी की जा रही है।

LEAVE A REPLY