स्मार्टफोन के इस्तेमाल के बीमार होता है बच्चा, ये हैं लक्षण

0
15

मोबाइल और टीवी ऐसी चीजें हैं जो हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गई हैं. खासकर छोटे बच्चों के लिए अब खिलौने की जगह स्मार्टफोन ने ले लिया है बच्चा भले ही एबीसीडी ना लिख पाता हो, लेकिन मोबाइल के सारे ऑपरेशन उसे पता होते हैं. पैरेंट्स भी बड़े खुश होकर अपने बच्चे की इस खूबी की तारीफ करते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं आपका फोन आपके बच्चे को बीमार कर रहा है. स्मार्टफोन पर लगातार रहने की आदत बच्चों की मूवमेंट्स को सीमित कर देती है, जिससे उनका शारीरिक विकास सही ढंगे से नहीं हो पाता. 12 साल से कम उम्र के बच्चों के जीवन में टैक्नोलॉजी का दखल उनके विकास व शैक्षणिक प्रगति के लिए घातक होता है. जो बच्चे लगातार मोबाइल में लगे रहते हैं, वो ज्यादातर अपने कमरे में ही रहते हैं, ऐसी हालत में बच्चों में मोटापे के खतरा भी मंडराता है. ज्यादा फोन के इस्तेमाल से बच्चों में डिप्रेशन, एंज़ाइटी जैसी समस्याएं बढ़ती जा रही हैं. स्मार्टफोन और इसी तरह के गैजेट्स का दुष्प्रभाव सबसे पहले बच्चों की आंखों पर दिखता है क्योंकि वो बैकलिट स्क्रीन को घंटों तक देखते रहते हैं. बच्चों की आंखों की भलाई के लिए उन्हें एक बार में 3० मिनट से अधिक समय तक स्क्रीन नहीं देखने दें. जब पैरेंट खुद गैजेट्स में खोए रहेंगे तो अपने बच्चों से भावनात्मक आधार पर दूर होने लगेंगे. बेहतर विकास के लिए यह ज़रूरी है कि माता-पिता बच्चों को समय दें.

LEAVE A REPLY