2014 में चली टेªन 2018 में अपने गंतव्य पर पहुंची !

0
4

नई दिल्ली। भारतीय रेल की लेटलतीफी कोई नई बात नहीं है। ट्रेनें अक्सर अपने तय वक्त से लेट ही रहती है। ८ घंटे-१० घंटे लेट होना तो आम बात हो गई है, लेकिन एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें रेलवे ने लेटलतीफी के सारे रिकार्ड तोड़ डाले। ट्रेन कुछ घंटे या कुछ दिन नहीं बल्कि १२७५ दिन लेट अपने गंतव्य पर पहुंची। जी हां हैरान मत होइए जिस दूरी को तय करने में ट्रेनों को ४२ घंटे १३ मिनट का वक्त लगता है, उसे रेलवे की लापरवाही की वजह से लगभग ४ साल में पूरा किया गया। साल २०१४ में चली ट्रेन २०१८ में अपने गंतव्य पर पहुंची है।
मामला बस्ती जिले का है, जहां साल २०१४ में विशाखापट्टनम से खाद लेकर चला रेलवे का वैगन ३.५ साल बाद पहुंचा। बस्ती स्टेशन पर वैगन के पहुंचते ही अधिकारियों में खलबली मच गई। वैगन में १० लाख से ऊपर का माल था, लेकिन उनका मालिक कौन था किसी को कुछ नहीं पता। फौरन संबंधित अधिकारियों को इस बारे में सूचित किया गया। वहीं ४ साल तक लापता वैगन में लदा ५० प्रतिशत से अधिक खाद बेकार हो चुका था। इन बेकार पड़े खादों का हर्जाना कौन भरेगा इस बारे में अधिकारी अब तक तय नहीं कर पाए हैं।
जानकारी के मुताबिक कल मालगाड़ी एसई १०७४६२ बस्ती स्टेशन पहुंचा। मालगाड़ी स्टेशन पर पहुंचते ही अधिकारियों में हड़कंप मच गया। मालगोदाम के इंचार्ज को सूचना दी गई। जांच-पड़ताल शुरू हुई तो पता चला की इसका कोई मालिक ही नहीं है। पता चला कि यह वैगन साल २०१४ में बस्ती के लिए बुक किया गया था। विशाखापत्तनम से खाद एक कारोबारी ने बुक कराई थी। वहां से तो तय वक्त पर खाद की खेप निकल गई, लेकिन रास्ते में लापता हो गई। कारोबारी ने कई बारे इस बारे में रेलवे को जानकारी दी, लेकिन रेलवे की लापरवाही से इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। करीब १२७५ दिन बाद खाद की खेप बस्ती पहुंची।
जानकारी के मुताबिक वैगन में १३१६ डीएपी खाद की बोरियां मिली हैं, जिनमें से लगभग आधी बोरियां खराब हो चुकी है। विशाखापटनम से बस्ती स्टेशन के बीच की दूरी १३२६ किमी है, जहां पहुंचाने में ४२ घंटे १३ मिनट लगते हैं,लेकिन बैगन ने लेटलीतीफी के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए और बस्ती पहुंचने में ३.५ साल का वक्त लग गया।

LEAVE A REPLY