पहाड़ हुआ पानी-पानी, अगले 72 घंटे बारिश का अलर्ट

0
6

देहरादून। बीते दिनों से उत्तराखण्ड में हो रही ताबड़तोड़ बारिश ने पहाड़ का जीवन तहस-नहस कर दिया है। नदियों नाले खाले उफान पर हैं । सड़कें पानी के बेग में बह रही हैं। पहाड़ खिसक रहे हैं। सूबे की 200 से अधिक सड़कों पर यातायात ठप हो गया है। मैदानी क्षेत्रें में बाढ़ का खतरा मड़रा रहा है। सैकड़ों गांवों का संपर्क देश दुनिया से टूट चुका है। लेकिन आसमान से बरसती आफत थमने का नाम नहीं ले रही है। मौसम विभाग द्वारा एक बार फिर अगले 72 घंटे तक राज्य के पहाड़ी और मैदानी हिस्सों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। जिसके मद्देनजर शासन द्वारा अधिकारियों को एडवाईजरी जारी करते हुए सतर्क रहने को कहा गया है।
उत्तरकाशी में पिछले कई दिनों से हो रही बारिश थमने का नाम नहीं ले रही है। यमुना और भागीरथी नदियों का जलस्तर खतरे के निशान को पार कर गया है। सड़कों में हो रहे कटान और पहाड़ों से आ रहे मलबे के कारण धरासू से आगे यमुनोत्री हाईवे कई जगह बंद हो गया है। जिसके कारण 150 वाहनों का संपर्क टूट गया है। और नदियों के सभी घाट जलमग्न हो चुके हैं। आबादी क्षेत्रें में पानी लोगों के घरों तक पहुंच गया है।
पहाड़ों पर हो रही घनघोर बारिश के कारण सिर्फ पहाड़ी क्षेत्रें में ही तबाही का मंजर नहीं है मैदानी इलाकों में भी इसका असर दिखने लगा है। लक्सर के 70 गांव गंगा, नीलधारा और सोनाली नदियों के प्रवाह से प्रभावित हुए आवासीय बस्तियों पर संकट के बादल मढ़रा रहे हैं। उधर हल्द्वानी, नैनीताल में पिछले 12 घंटे से लगातार बारिश हो रही है, जिसके कारण आवासीय कालोनियों में जल भराव के कारण लोग परेशान हैं।

मसूरी के देहरादून नैनबाग मार्ग पर भूस्खलन से यातायात बंद हो गया है। वहीं कैम्पटीफास से आ रहा पानी लोगों के लिए मुसीबत का सबक बना हुआ है। राजधानी देहरादून में भी पिछले 36 घंटे से लगातार हो रही बारिश के कारण जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। नदियों के किनारे बसी बस्तियों में पानी घुसने से लोग दहशत में हैं। राज्य के सभी चारधाम यात्र मार्ग भारी बारिश व भूस्खलन के कारण प्रभावित हुए हैं। यमुनोत्री हाईवे आठ दिनों से बंद पड़ा है वहीं बदरीनाथ व केदारनाथ भी बाधित हो गए हैं।
मौसम विभाग द्वारा अगले 72 घंटे तक राज्य में भारी बारिश का अंदेशा जताया है। उत्तरकाशी, चमोली, पिथौरागढ़, पौड़ी तथा टिहरी, दून और हरिद्वार में इस दौरान भारी बारिश की संभावना को देखते हुए प्रशासन ने सभी जिला प्रशासन के अधिकारियों को सतर्क रहने के निर्देश दिए हैं।

LEAVE A REPLY