गढ़वाल विवि ने फीस वृद्धि वापस ली, 4० से अधिक शुल्कों में कटौती, पिछले सत्र की फीस ही लागू होगी

0
7

श्रीनगर गढ़वाल। एचएनबी गढ़वाल विवि प्रशासन ने नए शिक्षा सत्र 2०18-19 से प्रवेशार्थी निर्देशिका पुस्तिका में विभिन्न शुल्कों में 1००-5०० रुपये की बढ़ोतरी की थी। जिसका छात्रों द्वारा विरोध करने तथा छात्रों से संबंधी कार्यों के शुल्कों में बढ़ोतरी होने छात्र भी परेशान थे। छात्रों की उक्त मांग को विवि प्रशासन ने एसी की बैठक में रखे जाने पर बढ़ाई गई फीस को वापस लेते हुए पिछले सत्र की भांति फीस रखे जाने का फैसला लिया है। जिस संदर्भ में विवि प्रशासन जल्द आदेश भी जारी करेगा। विदित है कि विवि प्रशासन से नए शिक्षा सत्र से विभिन्न प्रमाण पत्रों से लेकर परीक्षा शुल्कों में बढ़ोतरी कर दी थी। लगभग 4० से अधिक शुल्कों में विवि प्रशासन से 5० से 5०० रुपये तक की बढ़ोतरी कर दी थी। जबकि एलएमएल प्रत्येक सेमेस्टर में परीक्षा शुल्क की फीस पिछले साल 14०० रुपये थे, वह इस बार 315० रुपये कर दी थी, जिसमें 175० रुपये की कटौती की गई है। इसके साथ ही विभिन्न प्रमाण पत्र जैसे, ट्रांसफर, चरित्र प्रमाण पत्र, डुप्लीकेट फीस रसीद, परिचय कार्ड, परीक्षा सेंटर चेंज फीस, बैक पेपर, पूर्व छात्र परीक्षा फीस, रि-प्रयोगात्मक परीक्षा फीस, डुप्लीकेट माइग्रेशन प्रमाण पत्र के अलावा प्रोफेशनल एवं सेल्फ फाइनेंस कोर्स की परीक्षा फीस में जो बढ़ोतरी हुई थी, उसे विवि प्रशासन से वापस ले लिया है।
विवि प्रशासन द्वारा जो विभिन्न शुल्कों में बढ़ोतरी नये शिक्षा सत्र से की गई थी, उसे एकेडमिक काउंसिल की बैठक में स्थगित कर दिया है। जो फीस पिछले साल थी वही छात्रों को अदा करनी होगी। जिसके लिए आदेश संबंधी विभागों के लिए कर दिया जायेगा।
गढ़वाल विवि प्रशासन द्वारा विभिन्न शुल्कों में कटौती किये जाने से गढ़वाल विवि से सम्बद्ध सभी कॉलेजों के छात्रों को भी मिलेगा, जो गढ़वाल विवि के प्रशासनिक भवन में विभिन्न प्रमाण पत्र बनाने हेतु यहां पहुंचते है। गढ़वाल विवि के छात्रसंघ अध्यक्ष प्रदीप पंवार ने कहा कि विवि प्रशासन ने फीस में बढ़ोतरी कर छात्रों पर आर्थिक भार डाला गया था। जिसका मुद्दा एकेडमिक काउंसिल की बैठक में रखा गया, जिसके बाद विवि प्रशासन से बढ़ी फीस वापस लेने का निर्णय लिया। जिसका जल्द विभागीय आदेश आने पर छात्रों को लाभ मिलेगा। उन्होंने विवि प्रशासन से ऑनलाइन फीस जमा करने वाले छात्रों के लिए फीस की कटौती भी विवि की बेवसाइट पर ठीक करने की मांग की है।

LEAVE A REPLY