चार दिन में भी नहीं सुधरी बिजली व पेयजल व्यवस्था

0
52

देहरादून। 11 जुलाई की बात राजधानी दून में हुई मूसलाधार बारिश ने आपदा प्रबंधन के इंतजामों की कलई खोल कर रख दी है। पिछले चार दिनों के प्रयास भी राजधानी दून की बिजली और पेयजल आपूर्ति को सुचारू नहीं बना सके हैं जिसके कारण परेशानी झेल रहे लोगों में भारी आक्रोश है।
बीते चार दिनों आधी राजधानी में बिजली और पेयजल आपूर्ति बाधित है। नगर के 25 नलकूपों से पेयजल आपूर्ति बाधित होने से क्षेत्र के लोग पीने के पानी के लिए भी तरस रहे हैं। वहीं आधे शहर में बिजली की आंख मिचौली जारी है। तेज बारिश के कारण 11 जुलाई की रात बिंदाल नदी पुल पर बना बिजली का टावर तेज बहाव के कारणगिर गया था जिसकी अभी तक मरम्मत नहीं हो सकी है। जिसके कारण बिंदाल, आराघर किशननगर और निरंजनपुर बिजली घरों की आपूर्ति ठप पड़ी है। इन बिजली घरों से होने वाली आपूर्ति क्षेत्रें में दूसरे क्षेत्रें से बिजली आपूर्ति करने के जो प्रयास किये जा रहे वह भी अधिक लोड के कारण सफल नहीं हो पा रही हैं। यहीं नहीं जिन क्षेत्रें से बिजली कटौती कर प्रभावित क्षेत्रें को राहत दी जा रही है उन क्षेत्रें में अंधाधुंध कटौती के कारण लोग परेशान हैं। समस्या का समाधान कब तक हो सकेगा इसका भी कोई ठोस अधिकारी नहीं दे पा रहे हैं।
जिन बस्तियों में जल भराव के कारण लोगों के जानमाल का नुकसान हुआ था उन्हें भले ही जिला प्रशासन द्वारा सहायता राशि प्रदान की जा रही है लेकिन उनकी समस्याओं का समाधान सहायता राशि से नहीं हो सकता इन क्षेत्रें में बरसात से आयी मलवा और कीचडद्य एक बड़ी समस्या है। लोगों की अभी इस बात का भय सता रहा है अगर फिर से भारी बारिश होती है उन्हें फिर उसी तरह की समस्या का सामना करना पड़गा। और तो और अभी तक ग्राम फतेहपुर निवसी नरेन्द्र सिंह के शासन-प्रशासन खो जाने में नाकाम रहा है जो 11 जुलाई से लापता है प्रभावित क्षेत्रें में बिजली आपूर्ति और पेयजल व्यवस्था अभी तक सुचारू नहीं हो सकी है। यह हाल राजधानी दून का है। जहां सभी संसाधन उपलब्ध हैं। तथा सरकार व प्रशासन सब कुछ यहीं से संचालित होता है ऐसी स्थिति जून की आपदा प्रबंधन विभाग पहाड़ों में किसी दुर्गम स्थल पर आपदा के समय क्या कुुछ कर पाता होगा इससे सहज अनुमान लगाया जा सकता है।

LEAVE A REPLY