नींद नहीं आती तो हो जाएं अलर्ट, हो सकते हैं गंभीर बीमारी के लक्षण..!

0
15

जीने के लिए जितना जरूरी काम करना है, उतना ही जरूरी सोना भी है. निद्रा की शिकायत है और बार-बार आंखें मींचने की आदत आपको लगती जा रही है तो समझिए आपको इस गंभीर बीमारी के होने का संकेत मिल रहा है. दरअसल हम बात कर रहे हैं पाकिंसन रोग की. आमतौर पर यह बीमारी 5० से 7० साल की आयुवर्ग वाले पुरुषों में ज्यादा पाई जाती है. यह आदत नींद न आने की वजह से बढ़ती है. इससे प्रभावित लोग अपने सपनों में चीखते-चिल्लाते हैं और सोते हुए ही शारीरिक प्रतिक्रिया देते हैं.
तंत्रिका तंत्र के अध्ययन से संबंधित एक पत्रिका दि ‘द लांसेट’ में एक शोध प्रकाशित हुआ है जिसमें बताया गया है कि जिन पुरुषों को अनिद्रा की शिकायत ज्यादा होती है उनमें डोपामाइन की कमी होती है. यह एक रसायन है जो भावनाओं को प्रभावित करता है. उम्र बढऩे के साथ-साथ पार्किंसन रोग के विकसित होने का खतरा बढ़ता जाता है जिसकी वजह से मस्तिष्क में डोपमाइन को बनाने वाला इम्यून सिस्टम काम करना बंद कर देता है. इस बीमारी की वजह से हाथ-पैर में कंपन बढ़ जाता है और कई अंग सुचारु रूप से काम नहीं करते. पार्किंसन रोग को नियमित व्यायाम, थेरेपी और सही काउंसलिंग से ठीक किया जा सकता है. 2०16 में आई एक रिपोर्ट के अनुसार टीएमईएम नाके जीन में उत्परिवर्तन की वजह से पार्किंसन रोग होता है. इस रोग की वजह से डोपोमाइन का उत्पादन करने वाले न्यूरॉन्स की संख्या घट जाती है. (आरएनएस)

LEAVE A REPLY