सीएम के जनता दर्शन में हंगामा

0
7

देहरादून। छह महीने बाद आज मुख्यमंत्री आवास पर आयोजित किए गए जनता दरबार में आज उस समय अराजकता की स्थिति पैदा हो गई जब अपनी तबादले की गुहार करने आई एक शिक्षिका के साथ मुख्यमंत्री की तू-तू मै-मै हो गई। आवेश में आए मुख्यमंत्री ने भी मंच से ही शिक्षिका को बर्खास्त करने और गिरफ्रतार करने के आदेश सुना दिए।
आज सुबह मुख्यमंत्री के जनता दर्शन कार्यक्रम में उस समय हंगामे की स्थिति पैदा हो गई जब उत्तरकाशी के नौगांव ब्लाक में शिक्षिका के पद पर तैनात उत्तरा पंत बहुगुणा और मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत के बीच हो रही वार्ता तीखी नोंकझोंक में बदल गई। शिक्षिका ने अपनी बात सालीनता से शुरू तो की लेकिन धीरे-धीरे उनके स्वरों में आई तल्खी से मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत भी अपना आपा खो बैठे। उन्होंने शिक्षिका को पहले सस्पेशन की चेतावनी दी और फिर अंत में उन्हें गिरफ्रतार करने व सस्पेंड करने के आदेश भी दे दिए गए। शिक्षिका उत्तरा बहुगुणा का कहना था कि वह पिछले 25 सालों से उत्तरकाशी नोैगांव ब्लाक के प्राइमरी स्कूल में एक ही जगह नौकरी कर रही है तथा उसके पति का देहांत हो चुका है और उसके बच्चों को देखने वाला कोई नहीं है। इसलिए उनका तबादला कहीं सुगम स्थान पर कर दिया जाए। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि नौकरी करते वक्त आपने क्या लिखकर दिया था। इस पर शिक्षिका ने कहा कि आपकी सरकार बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओं की बात करती है मै नौकरी कर रही हूं या जिंदगीभर का वनवास भोग रही हूं। हर कोई नेता होता है लेकिन हमारी जनता की भी कुछ भावनाएं होती हैं। मै न अपने बच्चों को छोड़ सकती हूं और न नौकरी छोड़ सकती हूं। इस पर मुख्यमंत्री ने कहा कि आप शिक्षिका हैं तमीज से बात कीजिए। लेकिन शिक्षिका अपना स्थानान्तरण न होने और मुख्यमंत्री के रवैये से इतनी आहत थी कि वह जोर-जोर से चिल्लाने लगी। इस पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत भी अपना आपा खो बैठे और उन्होंने वहां मौजूद सुरक्षा कर्मियों को महिला का तुरंत बाहर ले जाने का आदेश देते हुए उन्हें सस्पेंड करने के आदेश भी दे डाले।
समाचार लिखे जाने तक महिला को पुलिस द्वारा हिरासत मेें लिये जाने के बाद छोड़ दिया गया है लेकिन उन्हें सस्पेंड किया गया है या नहीं। उसकी पुष्टि नहीं हो सकी है। लेकिन मुख्यमंत्री के आदेशों की बात करें तो उनकी मंच से सस्पेंड करने की गई घोषणा ही उनके सस्पेंशन का आर्डर है और इस पर अमल किया जाना तय बताया जा रहा है।

LEAVE A REPLY