टमाटर के इस्तेमाल से घटेगा कलेस्ट्रॉल, कम होगा वजन

0
17

टमाटर में विटमिन ए, बी, सी, लाइकोपीन और पोटैशियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है। टमाटर की खूबी यह है कि गर्म करने के बाद भी इसके विटमिन्स खत्म नहीं होते। यह खून की कमी को दूर कर शरीर को सुडौल और फुर्तीला रखने में मदद करता है। टमाटर खाने से शरीर में बैडकलेस्ट्रॉल का स्तर भी कम होता है।
स्ट्रोक का खतरा कम
रक्तवाहिनियों में बनने वाला खून का थक्का रक्त के बहाव में रुकावट पैदा करता है जिससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसी गंभीर बीमारियों का खतरा पैदा होता है। टमाटर हमारे शरीर की रक्तवाहिनियों में थक्का जमने से रोकता है जिससे हार्ट अटैक और स्ट्रोक का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। इसलिए जमता है रक्त का थक्का
धूम्रपान, खून में कलेस्ट्राल के उच्च स्तर और तनाव के कारण खून में मौजूद प्लेटलेट्स के आकार में बदलाव आते हैं जिनकी वजह से खून में थक्का जमने की आशंका बढ़ जाती है। एस्पिरिन नाम की दवा थक्का जमने के प्रभाव को कुछ हद तक कम कर देती है, लेकिन टमाटर के बीजों का रस थक्का जमने की प्रक्रिया को एस्पिरिन के मुकाबले ज्यादा धीमा करता है।
कैलरीज की मात्रा कम
टमाटर लो कैलरी फूड है इसलिए इसे खाने से वजन घटता है। टमाटर में ढेर सारा पानी और फाइबर होने की वजह से इसे वजन नियंत्रित करने वाला फिलिंग फूल कहते हैं। टमाटर से जल्द पेट भरता है और वह भी बगैर कैलरी या फैट बढ़ाए।
लाइकोपीन पहुंचाता है लाभ
यह एक तरह का क्वेंचर है जो ऑक्सिजन को त्वचा में सोखने में अहम भूमिका निभाता है। यह त्वचा को किसी प्रकार की हानि से बचाता है और पर्याप्त पोषण भी देता है। टमाटर में लाइकोपीन भरपूर होता है। यह केरोटिनॉयड्स से भी अधिक शक्तिशाली ऐंटीऑक्सिडेंट माना गया है। लाइकोपीन त्वचा को झुर्रियों से बचाता है और गर्भाशय के विकार दूर करता है। विशेषज्ञों का कहना है कि लाइकोपीन ऑस्टियोपोरोसिस से भी बचाव करता है। (

LEAVE A REPLY