जीवन में सच्चे मित्र की तरह हैं पुस्तकें

0
23

अल्मोड़ा । पुस्तकें सच्चें मित्र की भूमिका के साथ ही ज्ञान के अतुल भण्डार का काम करती है। यह बात जिलाधिकारी इवा आशीष श्रीवास्तव ने आज भगवती पैलेस में आयोजित राष्ट्रीय पुस्तक न्यास द्वारा 7 दिवसीय पुस्तक मेले के आयोजन के शुभारम्भ अवसर पर कही। उन्होंने कहा कि प्रत्येक वर्ग के लोगों को इन पुस्तकों का अध्ययन करना चाहिये ताकि उनका ज्ञान का भण्डार बढ़ सके। उन्होंने कहा कि इस पुस्तक मेले में प्राचीन इतिहास, साइंस टैक्नोलजी व साहित्य से जुडी पुस्तके लगी है जो हमारे आने वाली पाढ़ी के लिये लाभदयी है।
जिलाधिकारी ने इस अवसर पर कहा कि शिशु सदन,बाल संरक्षण गृह, नारी निकेतन सहित जिला पुस्तकालय व जनपद के मॉडल स्कूलों हेतु अनटाइट फण्ड से पुस्तके क्रय करने की स्वीकृति दी गयी है ताकि इन पुस्तकों का लाभ बच्चों को मिल सके। उन्होंने जिला पुस्तकालय के जीर्णोद्वार सहित अन्य आवश्यक जो कार्यवाही वहां पर की जानी है उसके लिये भी आगणन तैयार करने के निर्देश जिला शिक्षाधिकारी माध्यमिक को दिये। जिलाधिकारी ने इस अवसर पर कहा कि बच्चों के जन्म दिन के अवसर पर खिलौने भेंट न कर पुस्तकों को भेंट करने की परम्परा को हमें प्रोत्साहित करना होगा इससे बच्चों में पढऩे की जिज्ञास उत्पन्न होगी। उन्होंने इस अवसर एकसूत्रे संकलनमं की मानव संसाधन मंत्रालय द्वारा की गयी पहल की सराहना करते हुये आम जनमानस से अपील कि वे इस पुस्तक मेले का अवश्य लाभ उठाये।
जिलाधिकारी ने अपने बचपन की याद को ताजा करते हुये कहा कि विद्यार्थी जीवन में आनन्द भवन इलाहबाद में इस तरह की प्रर्दशनी लगती थी वहीं जिज्ञासा मन में रखकर में इस पुस्तक मेले में आने की स्वीकृति प्रदान की। आज भी मुझे पुस्तकों के प्रति विशेष लगाव है इसी तरह छात्र-छात्राओं को इसमें अवश्य भाग लेना चाहिये। उन्होंने भारतीय पुस्तक न्यास के आयोजको से कहा कि इस प्रर्दशनी में इस बात का विशेष ध्यान रखे कि पाठकों के जिज्ञासा के अनुसार ही पुस्तकों को क्रमानुसार सकेतांक बनाकर रखा जाय। जिलाधिकारी ने इस अवसर पर कहा कि यहां की संास्कृतिक गतिविधियों को बढ़ाने के साथ-साथ यहां पर पुस्तकों के प्रति बच्चों व अन्य पाठको का रूझान हो सके उनके लिये अनेक अभिनव प्रयोग किये जायेंगे।
इस अवसर पर सहायक निदेशक भारतीय पुस्तक न्यास के करण कुमार ने कहा कि ऐतिहासिक, साहित्यिक व शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी जनपद अल्मोड़ा में पुस्तक मेले के आयोजन से हमें नई प्रेरणा मिलती है और हमारा प्रयास रहेगा की प्रतिवर्ष इस तरह का आयोजन हो सके। जिला शिक्षाधिकारी माध्यमिक हर्ष बहादुर चदं ने कहा कि इस तरह के प्रयोगों से अध्ययन के क्षेत्र को एक नया आयाम मिलेगा। उन्होंने कहा कि प्रत्येक विद्यालयों में छोटी-छोटी पुस्तकालयें विकसित कर बच्चों को पुस्तकों केे प्रति प्रेरित करने की कोशिश की जायेगी। इस कार्यक्रम में त्रिलोक सिंह रावत, दिनेश कुमार, जिलाशिक्षाधिकारी बेसिक राय बहादुर यादव, नवीन बिष्ट, कपिलेश भोज, अनेक पत्रकार सहित भारी संख्या में लोग उपस्थित थे। पाइन वुडस के बच्चों ने स्वागत गीत गाया। इस कार्यक्रम का संचालन विभु कृष्णा ने किया। (आरएनएस)

LEAVE A REPLY