आरटीओ की जांच कराये सरकारः डंडरियाल

0
140

अपराध् संवाददाता
देहरादून। हिमाचल रोडवेज की नीलाम की गयी गाडि़यों का रजिस्ट्रेशन देहरादून आरटीओं में कर उसे पहाड़ी मार्गो पर चलाया जा रहा है। जबकि आरटीओ देहरादून ने कहा है कि हिमाचल में बसों की आयू 8 वर्ष है व उत्तराखण्ड में 15 वर्ष। यह सरासर गलत है लगता है कि इस प्रकरण में आरटीओ देहरादून की संलिप्तता है। इसकी जांच सरकार को करानी चाहिये।

आज कचहरी रोड पर पत्रकारों से वार्ता करते हुए देहरादून महानगर सिटी बस सेवा ‘महासघं’ के अध्यक्ष विजय वर्धन डंडरियाल ने बताया कि हिमाचल रोडवेज की नीलाम गाडि़यों को आरटीओ देहरादून में नये नम्बर पर रजिस्ट्रेशन कर उसे पहाड़ी मार्गो पर चलाया जा रहा है। उन्होने बताया कि इस सम्बन्ध् में आरटीओं देहरादून सुधांशु गर्ग द्वारा समाचार पत्रों को यह बयान दिया गया है कि हिमाचल की बसों की आयु 8 वर्ष है व उत्तराखण्ड में यह सीमा 15 वर्ष है।

विजय वर्धन डंडरियाल का कहना है कि यह सरासर गलत है। ऐसा लगता है कि इस घपले में आरटीओं देहरादून की भी संलिप्तता है। उन्होने कहा कि इन कंडम गाडि़यों को आरटीओ देहरादून द्वारा रजिस्ट्रेशन की अनुमति दी गयी थी।

उन्होने कहा कि दो गाडि़यों के कागजों में दर्ज रजिस्ट्रेशन पते की जांच में वह गलत पाये गये है। उन्होने कहा कि इस विषय की जांच केन्द्रीय ऐजेन्सियों व राज्य सरकार द्वारा किसी सक्षम एजेन्सी से करा लेनी चाहिए जिससे आरटीओ देहरादून द्वारा किये गये इस फर्जीवाड़े का पता चल सकेगा।

LEAVE A REPLY