कर चोरी पर लगेगी लगाम

0
116

जीएसटी को धरातल में उतारने में भले ही कई तरह की मुश्किलें प्रारम्भिक दौर में पेश आये लेकिन जीएसटी के लागू होने से कर चोरी पर लगाम लगेगी। अधिकांश कर विशेषज्ञों का मानना है कि जीएसटी के नियम कानूनो को लेकर अभी व्यापारियों और उद्यमियों में कई तरह की भ्रांतियां और आशंकाए बनी हुई है। लेकिन इस व्यवस्था के चलन में आने पर धीरे धीरे लोग इसके आदी हो जायेंगे। अब तक जितने लोग कर देते थे उससे दो गुने से भी ज्यादा लोग किसी न किसी रूप में कर चोरी करते थे। 12 साल पहले वैट व्यवस्था को लागू किये जाने पर कर चोरी रूकने की संभावना जताई गयी थी लेकिन व्यापारियो और उद्यमियों ने कर चोरी के नये नये तरीके खोज लिये थे।

जीएसटी की व्यवस्था में अब कर की चोरी आसानी से संभव नहीं होगी। अब व्यापारियों और उद्यमियों द्वारा कोई भी खरीद-फरोख्त बिना बिल के नहीं की जा सकेगी। खास बात यह है कि इसका हिसाब भी हर रोज अपलोड करना होगा इसलिए रिकार्ड में किसी भी तरह की हेरा फेरी की संभावनाए अत्यधिक कम हो जायेगी। यही नहीं पहले जो व्यापारी बिना बिल के या कच्चे पक्के बिल पर खरीददारी कर बिल के माल बेच देते थे।

80 फीसदी दुकानदार ग्राहक को बिना बिल के ही माल बेच देते थे जिसका कोई हिसाब नहीं रखा जाता और अपना कम व्यापार दिखाकर कर मुक्ति का लाभ उठाते रहते थे लेकिन अब जो जितना कारोबार करेगा और जितना कमायेगा उसे छिपा पाना संभव नहीं होगा? बाजार व्यवस्था में जीएसटी से पारदर्शिता तो आयेगी ही, साथ ही मनमानी कीमत वसूली पर भी लगाम लग सकेगा। अब सवाल सिर्फ इस व्यवस्था को पूरी तरह से धरातल पर उतारे जाने भर का है।

LEAVE A REPLY