मैं बहुत ज्यादा बोलता हूं : टेरेंस

0
140

जाने-माने डांसर और कोरियॉग्रफर टेरेंस लूइस को हार्ड टास्क मास्टर माना जाता है। वह आसानी से संतुष्ट नहीं होते हैं और न केवल दूसरों के, बल्कि खुद के काम में भी कमियां निकालना उन्हें बखूबी आता है। इन दिनों सिलेब्रिटी डांसिंग रिऐलिटी शो नच बलिए के नए सीजन को जज कर रहे टेरेंस ने साझा की अपनी बाते

नच बलिए शो में डांसिंग की ज्यादा अहमियत है या कपल्स के आपसी तालमेल की?
इस शो में हम यह देखते हैं कि एक जोड़ी, जिसमें दो लोग हैं, चाहे वो शादीशुदा हों या ना हों, मगर जो एक-दूसरे से प्यार करते हैं, वो एक टास्क मिलने पर किस तरह एक-दूसरे के साथ कोऑर्डिनेट करते हैं और मिलकर वो सफर तय करते हैं। हमें उनके निजी जीवन को कुरेदने में कोई इंट्रेस्ट नहीं है। हम डांस में उनकी जर्नी को देखने में ज्यादा इंट्रेस्टेड रहते हैं। वो एक-दूसरे के साथ कितना वक्त बिताते हैं, कैसे टास्क पूरा करते हैं, यह देखना महत्वपूर्ण होता है

आपको हार्ड टास्क मास्टर माना जाता है। क्या कंटेस्टेंट्स के साथ भी आप उतनी ही सख्ती बरतते हैं?
ऑनस्टेज मैं कैमरे के सामने तो ज्यादा हार्श नहीं होता, मगर बाद में कंटेस्टेंट्स से मिलकर उन्हें बताता हूं कि उनमें से किन-किन ने ठीक नहीं किया। मैं उनका पूरा कच्चा चिटठा खोलकर रख देता हूं। कई बार तो चैनल मेरी कई बातों को एडिट भी कर देता है। असल में मैं बहुत ज्यादा बोलता हूं और टेक्निकल ऐस्पेक्ट्स में बहुत जाता हूं। तो मैं उनसे बाद में अपनी बात कह देता हूं। हालांकि मैं उन्हें पॉजिटिव तरीके से बताता हूं। मेरा मकसद किसी को निराश करने का नहीं होता है। जैसे कि सनम बहुत अच्छा डांसर है, पर मैंने कई हफ्तों तक उसे 1० पॉइंट नहीं दिए, क्योंकि वह अपने रिलेशनशिप में इतना घुस गया कि उसका ध्यान अपने परफॉर्मेंस से हटने लगा। ब्रैट और आशिका के साथ भी ऐसा होता रहा। असल में यह एक बहुत रियल शो है। लोग नच बलिए में ग्रेट डांसर्स नहीं, बल्कि कपल्स के बीच की केमिस्ट्री देखने आते हैं। यहां डांस लोगों का प्रोफेशन नहीं है।

इस बार जो कपल्स शो में हिस्सा ले रहे हैं, उनकी खासियत क्या है?
इस बार जो कपल्स हमें मिले हैं, उनमें से हर एक की एक अलग कहानी है। कुछ तो इतने अतरंगी कपल हैं कि उन्हें देखकर लगता है कि ये एक-दूसरे के लिए ही बने हैं, तो किसी को देखकर लगता है कि ये दोनों एक-दूसरे के साथ कैसे रहते हैं। मगर हम जो सोचते हैं, वो उससे काफी अलग हैं। सबकी डांसिंग केपबिलिटीज भी अलग है। कई बार उनसे बात करने पर नई बातें सामने आती हैं। जो कपल एक-दूसरे से बिल्कुल भी मैच नहीं करते, कई बार उन्हें साथ में नाचते देखना बहुत इंट्रेस्टिंग होता है। मेरे हिसाब से इस मामले में सबसे बुरे डांसर भारती और हर्ष थे। हर्ष तो भारत के उन 9० प्रतिशत लोगों का प्रतिनिधित्व कर रहा था, जो शादियों में ऑफबीट डांस करते हैं। मोहित और सनाया भी ऐसे ही हैं।

फिर ऐसे कपल को चूज क्यों किया जाता है, जो ठीक से डांस भी नहीं कर सकते?
क्योंकि ये डांसिंग रिऐलिटी शो नहीं है। यहां आपको बेस्ट डांसर नहीं मिलेगा। यहां हम सिर्फ यह देखते हैं कि डांस करते वक्त उन दो लोगों की केमिस्ट्री कैसी बैठती है, जो एक-दूसरे से प्यार करते हैं। कई ऐसे कपल्स हैं, जो धीरे-धीरे आगे बढ़ जाते हैं, तो कुछ वहीं रह जाते हैं, जहां वे थे। अगर मेहनत करो, दिलचस्पी दिखाओ, तो बदलाव जरूर देखने को मिलता है।

कई बार आप किसी चीज के लिए शुरू में फाइट करते हैं, मगर बाद में उसी चीज को आप इंजॉय करने लगते हैं। डांस के मामले में भी ऐसा ही है। उसे प्रैक्टिकली इंजॉय करना पड़ता है। एबीसीडी (एनीबडी कैन डांस) शब्द मैंने ही ईजाद किया था, लेकिन यह भी सच है कि हर कोई डांसर नहीं बन सकता। जब आप टेक्नीक पर काम करते हो, तभी सुधार आता है। मुझे खुद 2० साल लगे ट्रेनिंग करते हुए।(आरएनएस)

LEAVE A REPLY