अस्पताल परिसर में भिड़ रहे निजी एंबुलेंस चालक

0
125

कोटद्वार। सरकारी अस्पताल में प्राइवेट एंबुलेंस खड़ी कर चालक जहां नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं वहीं मरीज को ले जाने को लेकर भी आपस भिड़ जाते हैं। ऐसा ही मामला बुधवार को भी सामने आया, जब मरीज के आने से पहले ही उसे ले जाने के नाम पर निजी एंबुलेंस चालक आपस में झगड़ा करने लगे।राजकीय संयुक्त अस्पताल परिसर में निजी एंबुलेंस खड़ी करने की अनुमति नहीं है।

उसके बावजूद प्रतिदिन परिसर में प्राइवेट एंबुलेंस यहां खड़ी आसानी से दिख जाती हैं। उनमें मरीज को ले जाने को लेकर अक्सर तू-तू मैं-मैं भी हो जाती है, लेकिन बुधवार को तो हद ही हो गई जब दो एंबुलेंस चालकों ने झगड़ा करना शुरू कर दिया। किसी मरीज को ले जाने के लिए सरकारी एंबुलेंस की बजाय प्राइवेट एंबुलेंस मौके पर पहुंच जाती है। अस्पताल में सरकारी एंबुलेंस नहीं होने का रोना रोया जाता है। ऐसी स्थिति में मरीज को निजी एंबुलेंस चालकों को खर्च देकर ले जाना पड़ता है, जिससे मरीज को मोटी रकम देनी पड़ती है।

मरीजों को लाने व ले जाने के लिए स्वास्थ्य विभाग के पास कोटद्वार में दो सरकारी एंबुलेंस हैं। इसके अलावा इमरजेंसी में 1०8 सेवा का उपयोग भी किया जा सकता है। लेकिन मरीजों को इन सरकारी एम्बुलेंसों का लाभ नहीं मिल पा रहा है। कई बार मिल चुके हैं निर्देश निजी एंबुलेंस चालकों को अस्पताल परिसर में अपनी गाड़ी खड़ी करने की अनुमति नहीं है। उसके बावजूद उन्हें हटाया नहीं जाता। (आरएनएस)

LEAVE A REPLY