बीवी-बच्चे की जिम्मेदारी नहीं चाहता: अक्षय

0
122

अक्षय खन्ना लंबे गैप के बाद फिर सिल्वर स्क्रीन पर एक्टिव हो रहे हैं। पिछले दिनों फिल्म ढिशूम से वापसी करने वाले अक्षय जल्द ही श्रीदेवी की लीड रोल वाली फिल्म मॉम में नजर आएंगे। इसी सिलसिले में हुई मुलाकात के दौरान अक्षय ने अपने करियर, ब्रेक, कमबैक और शादी के सवालों के ईमानदारी से जवाब दिए।

दो दशक के करियर के बाद भी ऐसा लगता है कि आपको खुद को साबित करना है?
हां, ऐसा होता है। एक नर्वसनेस होती है, जब आप एक बहुत बड़ा गैप लेते हैं। दूसरों का मुझे नहीं पता, लेकिन हां, मुझे लगता था कि अपने आप को वापस साबित करना है।

एक पर्सनल लाइफ से जुड़ा सवाल है। शादी को लेकर आपका क्या प्लान है?
मेरे एक दोस्त ने ये सवाल पूछा था, जो जवाब मैंने उसको दिया, वही आपको दूंगा। कुछ लोग मेरा जवाब पढ़कर बोलेंगे कि मैं स्टूपिड हूं या इडियट हूं, लेकिन मैं नहीं चाहता हूं कि मैं अपनी जिंदगी में किसी दूसरे इनसान के लिए रेस्पॉन्सिबल बनूं, चाहे वह बीवी हो या चाहे बच्चा हो।

मेरा आज का जो परिवार है, उसके प्रति मेरी जिम्मेदारी है, लेकिन मैं किसी और इन्सान की जिम्मेदारी नहीं लेना चाहता। मैं अपनी जिंदगी अकेला जीना चाहता हूं। मैं सबसे ज्यादा खुश रहता हूं, जब मैं अकेला रहता हूं। मैं उस तरह का आदमी हूं। मुझे अकेले रहना अच्छा लगता है। मैं ऐसे ही रहना चाहता हूं।

बोनी कपूर ने पिछले दिनों कहा कि मॉम आपके लिए असल कमबैक फिल्म साबित होगी। आप सहमत हैं इस बात से?
कमबैक का तो पता नहीं, पर इस फिल्म में सबका रोल बहुत खूबसूरत है। मेरा रोल इसमें बस एक पुलिस ऑफिसर का है, जो फिल्म में हुए एक क्राइम की पड़ताल करता है। फिल्म की असल खासियत कहानी है। मैंने कुछ दिन पहले ही पूरी पिक्चर देखी है और मैं बहुत खुश हूं फिल्म से। मैंने जब पिक्चर देखी, तो मैं फूट-फूट कर रोया। यह कहानी ऐसी है कि दिल को छुएगी। यह तो रिलीज पर पता चलेगा कि लोग क्या बोलते हैं, लेकिन मुझे लगता है कि जो भी लोग इस पिक्चर से जुड़े हैं, उन्हें इज्जत बहुत मिलेगी।

ढिशूम से पहले आपने कुछ चार-पांच साल का गैप लिया। क्या वजह थी और क्या किया आपने उस खाली समय में?
मेरे कुछ पर्सनल इशूज थे, जिसकी वजह से मैं उस समय काम नहीं कर सकता था। इसलिए नहीं कर पाया, लेकिन वह खाली समय बहुत बड़ा टॉर्चर था। एक आर्टिस्ट जब काम नहीं कर पाता है, तो वह वक्त बहुत भयावह होता है उसके लिए। पता नहीं मैं आपको अपनी बात समझा पा रहा हूं या नहीं, लेकिन अगर आप एक सिंगर को बोलो कि आप गाओ मत, तो अंदर से कुछ मर जाता है।

एक चित्रकार को बोलो कि नहीं, तस्वीर मत बनाओ तो अंदर से कुछ मर जाता है। यही बात ऐक्टिंग के साथ है। आप डांसर हो, आप गाना गाते हैं या कुछ भी क्रिएटिव करते हो, अगर वह क्रिएटिविटी बंद होती है, तो तकलीफ बहुत होती है। इसलिए वह एक बहुत ही मुश्किल दौर था, लेकिन अभी मैं जितना भी काम कर पाऊं, मैं वह करना चाहता हूं, क्योंकि इसके अलावा मैं कुछ जानता ही नहीं हूं। मुझे ऐक्टिंग को छोड़कर कोई दूसरा काम आता ही नहीं है।

आपने ढिशूम के टाइम कहा था कि आप लीड रोल नहीं करना चाहते। अब क्या करियर प्लान है?
मैंने क्या सोचा था उस समय कि इतने टाइम से मैंने काम नहीं किया, तो मैं आहिस्ता-आहिस्ता काम करना चालू करूंगा। तब मेरे मन में ये भी शक था कि मैं अच्छा काम कर पाऊंगा या नहीं। मेरे मन में था कि मुझे अपने को फिर से साबित करना है। इसलिए मैंने सोचा था कि लीड रोल नहीं करूंगा।

अच्छा रोल करूंगा। रोल के साथ कॉम्प्रमाइज नहीं कर सकता। रोल भले ही छोटा हो, लेकिन अच्छा होना चाहिए। जैसे मैंने ढिशूम किया या यह फिल्म मॉम कर रहा हूं। इसमें भी मेरा लीड रोल नहीं है। मॉम में भी श्रीदेवी मेन लीड हैं, लेकिन नवाज और मेरा रोल भी कमाल का है। इसलिए मैंने ऐसा सोचा था कि मैं धीरे-धीरे ही आगे बढूंगा।(आरएनएस)

LEAVE A REPLY