एसिड अटैक के आरोपी को दस साल की सजा

0
134

नैनीताल हाईकोर्ट का अहम फैसला

कार्यालय संवाददाता
देहरादून। नैनीताल हाईकोर्ट ने आज रूढ़की के एक एसिड अटैक के मामले में आरोपी को 10 साल का सश्रम कारावास व 5 लाख जुर्माने की सजा सुनाई है। साथ ही राज्य सरकार को एसिड अटैक के मामलों में कई दिशा निर्देश भी दिये है।

यह एसिड अटैक का मामला 28 दिसम्बर 2009 का है जब ट्यूशन पढ़ कर घर लौट रही एक छात्रा पर दिन के ढाई बजे एक युवक द्वारा एसिड फैंक दिया गया था। इस हमले में छात्रा बुरी तरह से घायल हो गयी थी। जिसका लम्बे समय तक इलाज चला। छात्रा के परिजनों द्वारा पड़ोस में रहने वाले आजम नामक युवक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था।

कई साल चले मुकदमें के बाद रूढ़की सेशन कोर्ट द्वारा सबूत के अभाव में युवक को बरी कर दिया गया था लेकिन पीडि़त छात्रा के पिता ने हार नहीं मानी और सेशन कोर्ट के फैसले के खिलाफ नैनीताल हाईकोर्ट में अपील दायर की। जिस पर सुनवाई करते हुए अदालत ने परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर आरोपी को दोषी मानते हुए निचली अदालत के पफैसले को गलत मानते हुए आरोपी युवक अकरम को 10 साल की कैद व पांच लाख के जुर्माने की सजा सुनाई है।

पीडि़त परिवार ने फैसले पर संतोष जाहिर करते हुए कहा कि देर से ही सही आखिर उनकी बेटी को न्याय तो मिला। कोर्ट ने एसिड अटैक मामलों पर राज्य सरकार को निर्देश दिये है कि वह एसिड पीडि़तों को विकलांगों का दर्जा दे तथा उन्हे अस्पताल में मुफ्त इलाज के साथ हर माह मुआवजा देने की व्यवस्था पर विचार करें। जिससे एसिड पीडि़तों को जीवन यापन में कठिनाई न हो।

LEAVE A REPLY