सूखी खांसी में रामबाण है शहद

0
145

लंबे समय से आ रही खांसी आपको कई बार काफी परेशान कर सकती है। खांसी सामान्यत: जुकाम और फ्लू का साइड इफेक्ट होती है, लेकिन यह एलर्जी, अस्थमा, एसिड रिफ्लक्स, शुष्क हवा और कुछ दवाओं के कारण भी हो सकती है। इसलिए सूखी खांसी में शहद का उपयोग करना, खांसी को दबाने का और गले की खराश में राहत पाने का एक प्रभावशाली तरीका है। अध्ययनों में पाया गया है कि शहद खांसी में दवाओं से भी ज्यादा फायदा देता है।

अदरक म्यूकस को ढीला करने में मदद करती है। अदरक और पिपरमिंट एकसाथ मिलकर आपके गले के पिछले हिस्से में होने वाली उत्तेजना को दबा सकते हैं जो खांसी का ट्रिगर होती है। इस मिश्रण को ज्यादा असरदार बनाने के लिए इसमें शहद भी मिला सकते हैं।

नमक के पानी से गरारा करें
नमक के पानी का प्रयोग गले की खराश में राहत पाने के लिए किया जाता है। यह सूजन कम करने के साथ बलगम को ढीला कर खांसी कम करने में भी मदद कर सकता है। 8 औंस गर्म पानी में छोटा चम्मच नमक मिलाएं और पूरी तरह घोलें। फिर इससे 15 सेकंड तक गरारे करें। फायदा होगा।

मुलैठी की जड़ श्वासतंत्र को राहत पहुंचाती है साथ ही यह सूजन को कम करने व म्यूकस को ढीला करने में भी मदद करती है7 इसे बनाने के लिए, दो बड़ी चम्मच मुलैठी की सूखी जड़ को एक मग में रखें और इस मग में उबलता हुआ पानी डालें। 1०-15 मिनट तक भाप लगने दे। दिन में दो बार इसे लें।

श्वसन संबंधी बीमारियों के लिए कुछ देशों में थाइम का उपयोग किया जाता है जैसे, जर्मनी में। थाइम गले की मांसपेशियों को आराम पहुंचाने और सूजन को कम करने में मदद करती है। एक कप पानी को उबालकर रखें और उसमें पिसी हुई थाइम मिलाकर 1० मिनट के लिए रख दें। पीने के पहले इसे छान लें।

LEAVE A REPLY