किसानों की निर्मम हत्या पर जवाब दे केन्द्रः आप

0
126

नगर संवाददाता
देहरादून। आम आदमी पार्टी ने देश में किसानों द्वारा आत्महत्या और मंदसौर में किसानों पर हुई गोलीबारी के विरोध में आज जिला मुख्यालय में प्रदर्शन कर राष्ट्रपति को ज्ञापन प्रेषित किया।

आप कार्यकर्ताओं का कहना था कि किसानों के उपर हो रहे अत्याचार के कारण कृषि प्रधान देश का किसान आज बड़ी ही दयनीय स्थिति में पहुंच गया है। फसल का पूरा दाम न मिलने के कारण कर्ज में डूबता चला जाता है और ऐसे में उसके सामने आत्महत्या करने के अलावा कोई विकल्प ही नहीं रह जाता है। मध्य प्रदेश में रोजाना औसतन पांच किसान आत्महत्या करते हैं। किसानों का आंदोलन इसी गंभीर स्थिति का परिणाम है।

चौहान सरकार ने शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे निर्दोष किसानों पर गोली चलवा कर उनकी निर्मम हत्या की है। उनका कहना था किसानों की फसल का भाव उसकी लागत का ड़ेढ़ गुना होना चाहिए लेकिन कांग्रेस और भाजपा दोनों किसानों के साथ धोखा कर रहे हैं। स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट 2006 में आयी थी जिसे कांग्रेस आठ साल तक टालती रही।

2014 के आम चुनाव में मोदी ने किसानों से वादा किया था कि भाजपा की सरकार बनते ही स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट को लागू किया जायेगा लेकिन तीन वर्ष बीत जाने के बाद भी इन्हें लागू नहीं किया गया है।

आप कार्यकर्ताओं ने केन्द्र सरकार से सवाल किया है कि सरकार किसानों को उनकी फसल की उत्पादन लागत पर 50 प्रतिशत का लाभ देने तथा ऋण माफी के वायदे पर कब अमल करेगी। किसानों ने आत्महत्या की हो या फिर उनकी निर्मम हत्या हुई हो, किसानों के उपर हो रहे अत्याचारों के विरुद्ध न्यायिक जांच बिठा कर दोषियों के विरुद्ध कानूनी कार्यवाही करने में विलम्ब क्यों हो रहा है। मंदसौर गोलीकांड के जिम्मेदार सभी आरोपियों पर हत्या का मुकदमा दर्ज करके उन्हें गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है।

किसान आत्महत्या करने के लि मजबूर हो उससे पहले उनके ऋण तत्काल माफ क्यों नहीं किये जाते। सरकार किसानों को सिंचाई के लिए 24 घंटे बिजली देने के आदेश कब तक जारी करेगी। दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार की तर्ज पर राज्य में फसल बर्बाद होने की स्थिति में किसान को 20 हजार रूपये प्रति एकड़ के हिसाब से मुआवजा दिलाने के लिए समान केन्द्रीय नीति कब लागू की जायेगी।

प्रदर्शन करने वालों में चन्द्रशेखर भट्ट, राव नसीम, श्याम बाबू, पुष्पा रावत, बलविंदर कौर, अशोक सेमवाल, सुधीर पंत, विनय राणा, प्रयाग नेगी, ईशान, पूजा भल्ला, सुदेश कुमार, विनोद बजाज तथा कमल राणा आदि शामिल थे।

LEAVE A REPLY