विद्युत कर्मियों ने दी आंदोलन की चेतावनी

0
85

नगर संवाददाता
देहरादून। उत्तराखण्ड संयुक्त विद्युत मंच ने अपनी मंागों को लेकर आंदोलन करने का ऐलान किया है।

आज परेड ग्राउण्ड स्थित एक रेस्टोरेंट में पत्रकारों से वार्ता करते हुए मंच के मुख्य संयोजक राकेश शर्मा ने कहा कि अपनी मांगों को लेकर तीन एसोसिएशन को लेकर मंच का गठन किया गया है। संगठन की मांग है कि छठे वेतन आयोग की ग्रेड पे की विसंगतियों को तत्काल दूर किया जाये। जोकि प्रबंधन द्वारा शासन को संदर्भित भी की जा चुकी है। लेकिन अब तक इस पर कोई कार्यवाही नहीं की गयी है। सातवें वेतन आयोग की सिपफारिशों को लागू किया जाये।

शासन में जिस प्रकार विभिन्न निगमों में 30 सितंबर 2005 तक नियुक्त कर्मियों को पेंशन आच्छादित स्कीम, जीपीएफ का लाभ दिया गया है उसी क्रम में तीनों उर्जा निगमों में 30 सितंबर 2005 तक नियुक्त कर्मियों को भी ईपीएफ स्कीम की जगह पर जीपीएफ स्कीम का लाभ दिया जाये।
उन्होंने कहा कि पूर्व में रिक्त सभी पदों पर नियमित कार्मिकों की नियुक्ति की जाये और जरूरत के अनुसार स्टाफ स्ट्रक्चर का भी विस्तार किया जाये।

उपनल के माध्यम से कई वर्षों से संविदा में कार्यरत कार्मिकों को उच्च न्यायालय के आदेशानुसार समान कार्य के लिए समान वेतन दिया जाये। क्योंकि बिजली विभाग आवश्यक सेवाओं के अंतर्गत आता है साथ ही भारतीय जीवन बीमा निगम की रिपोर्ट के अनुसार आर्मी के उपरांत सबसे अधिक कार्मिकों की कार्य के दौरान मृत्यु की घटनाएं भी बिजली विभाग में सबसे अधिक होती है।

उन्होंने चेतावनी है कि यदि समय रहते सरकार और निगम प्रबंधन द्वारा उनकी मांगों का निस्तारण न किया गया तो मंच धरना प्रदर्शन, हड़ताल करने को बाध्य होगा।

LEAVE A REPLY