बाहुबली 2 का गाना मिलना चमत्कार था: मधुश्री

0
94

फिल्म कल हो न हो, स्वदेश, पहेली, युवा, रंग दे बसंती, शिवा जी: द बॉस, रोबॉट और रांझना जैसी तमाम और फिल्मों के गीतों को अपनी सुरीली आवाज से सजाने वाली सिंगर मधुश्री ने पिछले दिनों भारतीय सिनेमा की सबसे बड़ी और चर्चित फिल्म बाहुबली 2 का गाना कान्हा सो जा जरा गाया।

मधुश्री ने कहा कि वह पिछले काफी समय से बॉलिवुड फिल्मों के गानों से दूर हो गईं थीं और ऐसे समय पर भारत की सबसे बड़ी फिल्म बाहुबली का यह गाना मिलना किसी बड़े चमत्कार से कम नहीं था।

मधुश्री कहती हैं, मुझे पता नहीं लोग चमत्कार और भगवान पर कितना विश्वास करते हैं… लेकिन मेरे साथ एक बड़ा चमत्कार हुआ हैं, जिससे मैं अभी तक नहीं निकल पा रही हूं।

पिछले दिनों विदेश से मेरे कुछ दोस्त आए थे, उन दोस्तों को कुछ मूर्तियां खरीदनी थी इस लिए हम साथ में एक मूर्ती की दूकान में गए। वहां मुझे भी एक मूर्ती पसंद आई जो कृष्ण भगवान की सोई हुई मुद्रा में थी। मैं वह मूर्ती घर ले आई। वैसे तो मैं देवी उपासक हूं लेकिन कृष्ण जी की मूर्ती इतनी मनमोहक लगी कि मैं घर ले आई। घर लाकर मूर्ती की पूजा-अर्चना की।

दूसरे दिन सुबह एक फोन आया जिससे एक बहुत बुरी खबर मिली, मुझे लगा कहीं कृष्णजी की मूर्ती घर लाने से ऐसी खबर तो नहीं आई। मन में कई शंकाएं थी लेकिन मैं मूर्ती के सामने बैठ प्रार्थना करने लगी की भगवान जो बुरी खबर मिली है उसे ठीक कर दो और चमत्कार दिखाओ। करीब चार घंटे के बाद मुझे हैदराबाद से बाहुबली के संगीत निर्देशक एस एस किरावनी जी का फोन आया और उन्होंने मुझे बाहुबली के एक गाने को गाने के लिए हैदराबाद बुलाया।

मधु आगे बताती हैं, यह मार्च का महीना था जिस समय बाहुबली रिलीज के लिए तैयार थी ऐसे में मुझे बुलाया गया तो मैं समझ गई कि शायद बाहुबली के मेकर्स ने यह गाना कई लोगों से गवाया होगा और उन्हें गाना नहीं पसंद आया होगा इसलिए लास्ट मूवमेंट में मुझे बुलाया गया है। बाहुबली जैसी फिल्म का गाना था इसलिए मैं बाकी सारे शूट कैंसल कर हैदराबाद के लिए रवाना हुई। शाम को गाने के रेकॉर्डिंग का समय निर्धारित था।

सब लोग गाने को रेकॉर्ड करने की बहुत जल्दबाजी में थे, मेरे पास गाने के बोल आ गए, मैंने जैसे ही गीत को पढ़ा मैं रोने लगी…. क्योंकि यह तो कृष्ण भजन, वह भी कृष्ण को सुलाने का भजन था। मैंने उसी समय अपने हज़्बंड रवि को फोन किया और रोते हुए उन्हें गाने के लिरिक के बारे में बताने लगी। खैर मैं उस समय इतना ज्यादा रो चुकी थी कि मेरा गला ठीक से काम नहीं कर रहा था… मैंने किरावानी जी को रिच्ेस्ट कर गाने को दूसरे दिन सुबह रेकॉर्ड करने के लिए कहा, वह मान गए, दूसरे दिन सुबह 11 बजे का टाइम तय हुआ।

मैंने रात भर गाने की प्रैक्टिस की और सुबह वक्त से पहले 9 बजे स्टूडियो पहुंच गई। किरावनी जी के पहुंचने से पहले ही मैंने स्टूडियो में मौजूद लोगों के साथ अपनी स्टाइल में गाने की प्रैक्टिस कर गाना रेकॉर्ड कर लिया। किरावनी जी आए तो मैंने उन्हें बताया कि मैंने प्रैक्टिस के दौरान कुछ रेकॉर्ड किया इसे सुन लीजिये और बताइये क्या गाने को ऐसे ही रेकॉर्ड करना है।

उन्होंने गाना सुना और उन्हें वही प्रैक्टिस सांग पसंद आ गया और बाद में उन्होंने कुछ और रेकॉर्ड नहीं किया। तो इस तरह से मुझे बाहुबली का यह गाना मिला।

मधुश्री अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहती हैं, वैसे अभी चमत्कार खत्म नहीं हुआ था, शाम को जब मुंबई अपने घर पहुंची तब उस बुरे समाचार वाले का फोन वापस आया जिससे मैं परेशान होकर कई शंकाओं से घिर गई थी। फोन कर सामने वाले ने मुझसे माफी मांगी और सुबह के बुरे समाचार के लिए खेद प्रकट किया। बाहुबली के इस गाने के बाद एक बार फिर से मेरे करियर में उछाल आ गया है।

इन पंद्रह दिनों में सैकड़ों शो सहित मुझे कृष्ण भगवान के इस्कॉन टेम्पल से दुनिया भर के इस्कॉन मंदिर के टूर के लिए भी बुलाया गया है। मुझे कृष्ण जन्माष्टमी के लिए अभी से लाइव कॉन्सर्ट के लिए बुक कर लिया गया है।

पता नहीं लोग चमत्कार में कितना विश्वास करते हैं लेकिन मेरे साथ तो जो भी हुआ और हो रहा है वह चमत्कार ही है। इस घटना के बाद मेरा जीवन जीने का तरीका ही बदल गया है। (आरएनएस)

LEAVE A REPLY