अपनी फिल्म से लोगों को चौंका देना चाहती हूं: हुमा

0
120

मा कुरैशी जल्द ही एक हॉरर फिल्म दोबारा- सी योर एविल में दिखेंगी। हुमा ने फिल्म के बारे में फिल्मफेयर से बात की। पढें ये पूरी बातचीत:

दोबारा- सी योर एविल से आप हॉरर फिल्मों की शुरुआत कर रही हैं। कैसे सोचा इस बारे में?

यह फिल्म हॉलिवुड की माइक फ्लैंगन की हॉरर फिल्म ऑक्यूलस(2०14) पर आधारित है। इसकी कहानी एक भूतिया शीशे के इर्द-गिर्द घूमती है। मेरे किरदार नताशा का मानना है कि इसी शीशे की वजह से मेरे मां-बाप की मौत हुई है लेकिन नताशा का भाई कबीर (साकिब सलीम) ऐसा नहीं मानता। फिर दोनों भाई-बहन सच की तलाश में निकलते हैं। मैंने ऑक्यूलस भी देखी है। फिल्म के प्रड्यूसर ने भारत में यह फिल्म बनाने के लिए हमसे संपर्क किया। हमें यह पसंद आई और हम राजी हो गए।

अपने भाई साकिब सलीम के साथ काम करके कैसा लगा?
बहुत अच्छा लगा! मैंने इससे पहले कभी भी अपने भाई के साथ काम नहीं किया था। इंडियन सिनेमा में शायद हम पहले ऐसे भाई-बहन होंगे जो स्क्रीन पर भी भाई-बहन का रोल निभाएंगे। ये एकदम परिवार जैसा अनुभव रहा।

आपकी लास्ट फिल्म जॉली एलएलबी 2 बड़ी हिट साबित हुई। इसके बाद क्या परिवर्तन आए हैं?
इसके पहले लोग मुझे सिर्फ एक ऐक्टर के तौर पर देखते थे। लोग कहते थे, तुम ऐक्ट्रेस बड़ी अच्छी हो। जिन लोगों के काम को देखकर आप बड़े हुए हों जब वह लोग आपकी तारीफ करें तो खुशी होती है।

अपनी जिंदगी में और कौन से मुक़ाम हासिल करना चाहती हैं आप?
मैं एक ही तरह की बोरिंग औरत का रोल करने की बजाय अलग-अलग और नए तरह के रोल करना चाहती हूं। लोगों को लगना चाहिए कि हां ये कुछ कर दिखाएगी। मैं लोगों को चौंकाना चाहती हूं। इंशाअल्लाह! आगे चलकर मैं और साकिब एक साथ काम करना चाहते हैं। एक प्रड्यूसर के रूप में। लेकिन इसके बारे में बात करना अभी जल्दबाजी होगी।

आपको इंडस्ट्री के बारे में क्या अच्छा, बुरा लगता है?
क्रिएटिविटी के मामले में हम विश्व में बहुत बड़ी शक्ति हैं। दुनियाभर के लोग भारत को पसंद करते हैं। कुछ साल पहले लोग हमें सिर्फ नाचने-गाने वाला सिनेमा समझते थे लेकिन अब स्थिति बदल चुकी है। हमारे पास बेहतरीन लेखक और डायरेक्टर हैं। क्षेत्रीय भाषाओं में भी बेहतरीन फिल्में बन रही हैं। अगर इनको ढंग से ऑर्गनाइज किया जाए तो तस्वीर कुछ और ही होगी।

फिल्मों के अलावा क्या पसंद है?
किताबें, कुकिंग और ट्रैवल करना।

पहाड़ या बीच?
बीच।(आरएनएस)

LEAVE A REPLY