डोर-टू-कूड़ा कलेक्शन वाहनों पर लगेगा जीपीएसःराधिका

0
6

नगर संवाददाता
देहरादून। दून शहर में फैली गंदगी से शायद आने वाले दिनों में जनता को राहत मिल जायेगी। शहर को साफ रखने के लिए अब सीएम कार्यालय से भी प्रयास तेज कर दिये गये हैं। आज सीएम के निर्देश पर सचिव मुख्यमंत्री राधिका झा ने दून के विभिन्न वार्डों का निरीक्षण किया। इस दौरान कई स्थानों पर सफाई व्यवस्था चौपट देख कर उन्होंने सफाई सुपरवाईजरों से जवाब तलब भी किया। साथ ही सफाई व्यवस्था चाक-चौबंद रखने के निर्देश भी दिये। उन्होंने कूड़ा उठाने वाले वाहनों में जीपीएस लगाने के निर्देश दिये हैं।

शहर की सफाई और  सुंदरता  के लिए सीएम कार्यालय से प्रयास तेज कर दिये गये हैं। भीषण गर्मी और पर्यटन सीजन के मद्देनजर भी शहर में सपफाई सुचारू होनी जरूरी है। जिसके लिए आज सचिव सीएम राधिका झा ने दून के विभिन्न वार्डों में औचक निरीक्षण किया। नगर निगम के सात वार्डों में डोर टू डोर कलेक्शन के काम का आकस्मिक निरीक्षण कर उन्होंने कूड़ा उठाने वाले वाहनों में जीपीएस सिस्टम लगाने के निर्देश दिये। जिससे कि इन गाडि़यों की आवाजाही पर नजर रखी जा सकेगी। सफाई कार्य में लगे कर्मचारियों को टोपी व बैज उपलब्ध कराने को कहा गया है। इस दौरान कई स्थानों पर सपफाई न होने के कारण उन्होंने सुपरवाईजरों से जवाबतलब भी किया।

सचिव राधिका झा ने नगर निगम अधिकारियों को निर्देशित किया कि अभियान चला कर रिस्पना व बिंदाल नदियों में से कूड़ा उठाया जाये। देहरादून के लिए आवश्यक डस्टबीनों के लिए नगर निगम में आंकलन किया जाये और इन डस्टबिनों को कहां लगाया जाना है इसके लिए बिना किसी दबाव के निर्णय लिये जाये। आईएसबीटी, कचहरी आदि प्रमुख स्थानों से दिन में दो बार कूड़ा उठवाया जाये। इसके साथ ही शहर को अलग-अलग जोन में बांट कर यहां सपफाई व्यवस्था का नियमित निरीक्षण किया जाये। प्रत्येक जोन में वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी जिम्मेदारी दी जाये। जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त स्टापफ की व्यवस्था भी की जाये।

सचिन झा ने धर्मपुर चौक व एलआईसी भवन के समीप स्थित अंडर ग्राउण्ड डस्टबिनों का निरीक्षण भी किया। जाखन कॉलोनी में सफाई व्यवस्था का जायजा लेने के साथ ही स्थानीय लोगोें से पफीडबैक भी लिया। उन्होंने कहा कि दून की स्वच्छता के लिए जनसहभागिता आवश्यक है। सार्वजनिक स्थानों पर थूकने पर रोक के लिए एंटी लिटरिंग एंड स्पिटिंग एक्ट का आगामी 15 दिनों तक व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाये। इसके बाद एक्ट के तहत चालान आदि की कार्यवाही प्रारंभ की जाये। इस दौरान उनके साथ नगर आयुक्त रवनीत चीमा व अन्य अधिकरी भी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY