कार्यकर्ताओं में आत्मविश्वास और नेताओं में एकता कायम करना प्रीतम के लिए चुनौती

0
41

मुख्य संवाददाता
देहरादून। कांग्रेस के नये अध्यक्ष प्रीतम सिंह के सामने दिख रही चुनौतियों में पिछले विधानसभा चुनाव में हार से पैदा निराशा को दूर करने के अलावा पार्टी नेताओं के बीच इस अवधि में पैदा हुई दूरियों को भी पाटना है। कल धूमधाम से अपना कार्यभार संभालने वाले प्रीतम सिंह ने यह स्पष्ट भी किया है कि अपने सामने चुनौतियों की उन्हें ठीक से जानकारी भी है और उनसे पार पाने का संकल्प भी। यह भी पहली बार है कि जब किसी राष्ट्रीय दल की राज्य ईकाई का प्रदेश अध्यक्ष एक जनजातीय नेता को बनाया गया है।

प्रीतम सिंह ने अभी तक भले पूरे प्रदेश की राजनीति में कोई रूचि न दर्शाई हो लेकिन चकराता के इस राजनीतिक परिवार को प्रदेशभर में जानता हर कोई है। उनके पिता गुलाब सिंह से प्रारंभ राजनीति में इस परिवार के हिस्से हार कम और जीत कई गुणा है। हालांकि इस बार की प्रदेश व्यापी मोदी लहर का असर चकराता तक पहुंचते दिखा तो लेकिन अपने ग्राउन्ड वर्क के दम पर प्रीतम सिंह अपनी कुर्सी बचाने में सफल हो ही गये। ऐसे में उन्हे प्रदेशभर में कांग्रेस की भारी हार के मौलिक कारणों का भान तो है ही। उनका विनम्र स्वभाव किसी भी कार्यकर्ता को उन तक पहुुंचने से रोकेगा नहीं,यह भी तय है।

प्रीतम सिंह का कहना है कि वे पांच साल सरकार पर कड़ी नजर रखेंगें और इसमें प्रदेशभर में फैले पार्टी संगठन का उपयोग करेंगें। हालांकि पार्टी को चुनाव बाद पखवाड़ेभर के विशेष सदस्यता अभियान में न केवल जनता की ठंडी प्रतिक्रिया का सामना करना पड़ा है बल्कि कार्यकर्ता भी निरूत्साहित दिखे हैं। पार्टी अध्यक्ष ने यह भी स्वीकार किया है कि उनके लिये पार्टी नेताओं के बीच कार्यकारी समन्वय भी स्थापित सुनिश्चित करना है जो इस बीच कमजोर हुआ है।

याद करें, एक ओर पार्टी की भारी हार के लिये निवर्तमान मुख्यमंत्राी हरीश रावत ने अपनी जिम्मेदारी स्वीकार करते हुए पार्टी की ओर से किसी भी दंड को स्वीकारने की घोषणा कर डाली तो विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष डा. इंदिरा हृदयेश ने रावत के दो सीटों से हार को पार्टी का काला अध्याय करार दिया। हालांकि बाद में उन्होंने सफाई दी कि उन्होंने ऐसा कुछ नही कहा लेकिन इस बयान से जनता को दोनों नेताओं में दूरी का संदेश तो मिल ही गया। कांग्रेस विधायक दल में भी डा. हृदयेश को सहयोग न मिलने के संकेत मिले हैं जहां कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष भी एक सदस्य के रूप में हैं ।

LEAVE A REPLY