अब पहाड़ पर दौड़ेगी विकास की रेल

0
91

हमारे संवाददाता
देहरादून। यूं तो पहाड़ पर रेल दौड़ने की बात पिछले कई सालों से चर्चाओं के केन्द्र में है। ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेलमार्ग निर्माण की कवायद के बीच उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का कहना है कि इस परियोजना के विस्तारीकरण को केन्द्र सरकार द्वार अपनी मंजूरी दे दी गयी और 13 मई को रेलमंत्री सुरेश प्रभु अपने उत्तराखण्ड दौरे के दौरान इस विस्तारीकरण योजना का शिलान्यास करेंगे।

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत द्वारा आज आशय की जानकारी देते हुए बताया गया है कि अब ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल परियोजना सिर्फ कर्णप्रयाग तक सीमित नहीं रहेगी अब इसका विस्तारीकरण सोनप्रयाग तक किया जायेगा। उन्होने बताया कि 13 मई को रेल मंत्री सुरेश प्रभु बद्रीनाथ धाम में इसका शिलान्यास करेंगे। उधर इस रेलमार्ग निर्माण से जुड़े वर्तमान पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने इस विस्तारीकरण योजना के लिए केन्द्र की मोदी सरकार का आभार जताते हुए कहा है कि आने वाले समय में बद्रीनाथ और केदारनाथ धामों तक रेलमार्ग का निर्माण संभव हो सकेगा।

यहां यह उल्लेखनीय है कि सन 2011 में जब केन्द्र में कांग्रेस की सरकार थी तब तत्कालीन रेलमंत्री दिनेश त्रिवेदी द्वारा गोचर में इस रेल लाइन का शिलान्यास किया गया था तथा इसके शिलान्यास के लिए सोनिया गाँधी को आना था यहां लगे शिलापट पर उनका नाम लिखा है सतपाल महाराज उस समय कांग्रेस में थे भले ही वह अब भाजपा में हों लेकिन वह इस परियोजना से तब भी जुड़े थे और आज भी जुड़े है।

2017 के विधानसभा चुनाव से चंद दिन पूर्व दून के परेड ग्राउंड से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी द्वारा आल वेदर रोड का शिलान्यास किया गया था और इसे बनने पर हर मौसम में चार धाम यात्रा संभव होने की बात कही थी।

प्रधानमंत्री मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान प्रदेश के लोगों को कहा था कि अगर वह विकास चाहते है तो राज्य में डबल इंजन वाली सरकार बनाये। प्रदेश के लोगों ने भाजपा को इस चुनाव में रिकार्ड जीत के साथ सत्ता सौंपी। हालांकि अभी तक आल वेदर रोड में कई पेंच फंसे है और ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल परियोजना भी सर्वे तक सीमित है लेकिन अब सोनप्रयाग तक रेल दौड़ने की जो कवायद शुरू हुई है उसे सराहनीय कहा जा सकता है। लेकिन यह विकास की रेल कब तक पहाड़ों में दौड़ पायेगी? इस सवाल का जवाब तो आने वाला समय ही बतायेगा।

LEAVE A REPLY